SCF-7F, Sector-27-C, Chandigarh
9779200432 , 9041414411 (Whatsapp)
Helpline: 0172-5015432
iiachandigarh@gmail.com

                                “हरी ॐ तत्सत”

                       -: प्रस्तावना :-

अध्याय छटा :---- ( ध्यानयोग )
युञ्जन्नेवं सदात्मानं योगी नियतमानसः |
शान्तिं निर्वाणपरमां मत्संस्थामधिगच्छति || १५ || 
युञ्जन् – अभ्यास करते हुए; एवम् – इस प्रकार से; सदा – निरन्तर; आत्मानम् – शरीर, मन तथा आत्मा ; योगी – योग का साधक; नियत-मानसः – संयमित मन से युक्त; शान्तिम् – शान्ति को; निर्वाण-परमाम् – भौतिक अस्तित्व का अन्त; मत्-संस्थाम् – चिन्मयव्योम (भवद्धाम) को; अधिगच्छति – प्राप्त करता है |
भावार्थ:--इस प्रकार शरीर, मन तथा कर्म में निरन्तर संयम का अब्यास करते हुए संयमित मन वाले योगी को इस भौतिक अस्तित्व की समाप्ति पर भगवद्धाम की प्राप्ति होती है |
तात्पर्य:--अब योगाभ्यास के चरम लक्ष्य का स्पष्टीकरण किया जा रहा है | योगाभ्यास किसी भौतिक सुविधा की प्राप्ति के लिए नहीं किया जाता, इसका उद्देश्य तो भौतिक संसार से विरक्ति प्राप्त करना है | जो कोई इसके द्वारा स्वास्थ्य-लाभ चाहता है या भौतिक सिद्धि प्राप्त करने का इच्छुक होता है वह भगवद्गीता के अनुसार योगी नहीं है | न ही भौतिक अस्तित्व की समाप्ति का अर्थ शून्य में प्रवेश है क्योंकि यह कपोलकल्पना है | भगवान् की सृष्टि में कहीं भी शून्य नहीं है | उलटे भौतिक अस्तित्व की समाप्ति से मनुष्य भगवद्धाम में प्रवेश करता है | भगवद्गीता में भगवद्धाम को भी स्पष्टीकरण किया गया है कि यह वह स्थान है जहाँ न सूर्य की आवश्यकता है, न चाँद या बिजली की | आध्यात्मिक राज्य के सारे लोक उसी प्रकार से स्वतः प्रकाशित हैं, जिस प्रकार सूर्य द्वारा यह भौतिक आकाश | वैसे तो भगवद्धाम सर्वत्र है, किन्तु चिन्मयव्योम तथा उसके लोकों को ही परमधाम कहा जाता है |
एक पूर्णयोगी जिसे पराशक्ति का पूर्णज्ञान है जैसा कि यहाँ भगवान् ने स्वयं कहा है (मच्चितः, मत्परः, मत्स्थान्म्) वास्तविक शान्ति प्राप्त कर सकता है | ब्रह्मसंहिता में (५.३७) स्पष्ट उल्लेख है – गोलोक एव निव सत्यखिलात्मभूतः – यद्यपि भगवान् सदैव अपने धाम में निवास करते हैं, जिसे गोलोक कहते हैं, तो भी वे अपनी परा-आध्यात्मिक शक्तियों के कारण सर्वव्यापी ब्रह्म तथा अन्तर्यामी परमात्मा हैं | अतः आत्मज्ञान संपन्न व्यक्ति ही पूर्णयोगी है क्योंकि उसका मन सदैव पराशक्ति के पराभाव में तल्लीन रहता है | वेदों में (श्र्वेताश्र्वतर उपनिषद् ३.८) में  भी हम पाते हैं – तमेव विदित्वाति मृत्युमेति – केवल आत्मज्ञान परमात्म  को जानने पर ही जन्म तथा मृत्यु के पथ को जीत कर मोक्ष की प्राप्ति संभव है | दूसरे शब्दों में, योग की पूर्णता संसार से मुक्ति प्राप्त करने में है, इन्द्रजाल अथवा व्यायाम के करतबों द्वारा  नहीं !!

                       -: तकनीक :-

. ऋषिरुवाच इदं रहस्यं परममनाख्येयं प्रचक्षते। भक्तोऽसीति न मे किञ्चित्तवावाच्यं नराधिप॥3॥  
ऋषि कहते हैं-राजन्! यह रहस्य परम गोपनीय है। इसे किसी से कहने योग्य नहीं बतलाया गया है; किंतु तुम मेरे भक्त हो, इसलिये तुमसे न कहने योग्य मेरे पास कुछ भी नहीं है॥3॥

सर्वस्याद्या महालक्ष्मीस्त्रिगुणा परमेश्वरी। लक्ष्यालक्ष्यस्वरूपा सा व्याप्य कृत्स्नं व्यवस्थिता॥4॥
त्रिगुणमयी परमेश्वरी महालक्ष्मी ही सबका आदि कारण हैं। वे ही दृश्य और अदृश्ष्यरूप से सम्पूर्ण विश्व को व्याप्त करके स्थित हैं॥4॥

मातुलुङ्गं गदां खेटं पानपात्रं च बिभ्रती। नागं लिङ्गं च योनिं च बिभ्रती नृप मूर्धनि॥5॥ 
राजन! वे अपनी चार भुजाओं में मातुलुङ्ग (बिजौरे का फल), गदा, खेट (ढाल) एवं पानपात्र और मस्तक पर नाग, लिङ्ग तथा योनि-इन वस्तुओं को धारण करती हैं॥5॥ इस श्लोक एवं इसके अर्थ को पढ़ कर हृदयंगम करें !!

शुद्ध जल से श्नान कर ऋतू एवं सुविधा अनुसार कम से कम कपडे धारण कर निर्धारित आसन पर “सुखासन” में बैठें

१. शिखा बंधन करें या शिखा स्थान पर हाथ रखें गायत्री मन्त्र का उच्चरण करें

२. नाड़ी शोधन + कुम्भक-पूरक-रेचक + सूर्य-भेदी + पूरक प्राणायाम क्रिया पूर्ण करें इस सम्पूर्ण क्रिया में गायत्री मन्त्र मानसिक रूप से निरंतर चलाये रखें !!

3.अब मानसिक रूप से मस्तिष्क के उपरी भाग में चतुर्भुजी माँ भुवनेश्वरी का ध्यान करें माँ अति सुंदर लाल सुनहरे वस्त्र धारण किये हुए हैं मस्तक की बिंदी की चमक करोड़ों सूर्यों को लज्जित करने वाली है दोनों कानो में सुंदर स्वर्णिम कर्णफूल विराजित हैं गले में बहुत सुंदर आभूषण धारण किये हुए हैं मस्तक पर जटाओं के आसन पर योनी-लिंग विराजित है लिंग पर सुंदर सुनेहरा नाग लिपटा हुआ फन फैलाये हुए बैठा है उसके पास लिंग पर अर्ध चन्द्र सुंदर स्वच्छ चांदनी बिखेर रहा है इस विग्रह से छन कर ये सोम-प्रकाश माँ के चरणों में बैठे मेरे गुरुदेव के मस्तक को ज्ञान प्रदान कर रहा है इस प्रकार ध्यान में बैठे हुए गुरुदेव के चरणों में मानसिक दंडवत प्रणाम करें !!

  1. 64 बार “ह्रीं” बीज का उच्चारण करें मन्त्र की लय एवं ध्वनी में लय हो जाने का निरंतर प्रयास करें !!
  2. सर्वप्रथम माता जी के स्वरूप को ह्रीं बीज रुपी शब्द में समाहित कर बीज का विराट स्वरूप महसूस करें यहाँ से ध्वनी एवं प्रकाश रुपी उर्जा शक्ति को मूलाधार चक्र में “लं” बीज पर निरंतर केन्द्रित करें उसी शक्ति पुन्ज् को वहां से सुषमना नाड़ी से ही वापिस “ह्रीं” शक्ति बीज में विलय करते रहे !!

मन्त्र शक्ति का नियम है की किसी भी मन्त्र पूर्ण उर्जा / शक्ति प्राप्त करने के लिए उस मन्त्र एवं मन्त्र के देवता को आत्म सात करना आवश्यक है तभी मन्त्र साधक को उर्जान्विक करके देवत्व प्रदान करता है !! मेरे मत में हम इसे मन्त्र सिध्ही नहीं कहेंगे !!

 

इस बीज मन्त्र की शास्त्र विधि अनुसार १२५००० की संख्या में जाप करें एक ही समय या नवरात्रों के नों दिनों में या ग्रहण काल में या गंगा जी के मध्य खड़े होकर रुद्राक्ष की माला से जाप करें !!

इसके बाद मात्र “ह्रीं” बीज को लय सहित १२५००० की संख्या में जाप करें यह दोनों क्रियाएं मात्र एक ही बार पूर्ण करनी हैं !! गुरु पुष्य योग में श्री गंगा जी के मध्य खड़े होकर गले में नवग्रह कंठी एवं मस्तक पर विशेष लॉकेट धारण कर विधि सहित एक माला मन्त्र जप सवा लाख मन्त्र जप के बराबर पुन्य फल दाई है !! (श्री मद्देवी भागवत अनुसार)

तत्पश्चात ध्यान क्रिया में प्रवेश करें हमारा शरीर जन्म जन्मान्तर के कर्मों से तरह तरह के ऋणों से बंधा हुआ जन्म लेता है जिस कारन हम ऋणों के रहते आत्म कल्याण नहीं कर पाते शास्त्रों में इन ऋणों से मुक्ति पानें के लिए “पञ्च महायज्ञ” पद्धति( तर्पण,श्राध,बलिवैश्वदेव,अग्निहोत्र,स्वाध्याय एवं ध्यान) एवं  बताई गयी है जिसमें कर्मकांड की प्रमुखता है जो आज के परिवेश में संभव नहीं हो पाता अतः इस बीज मन्त्र की महत्ता को समझते हुए मेरा यह अनुभव है की यदि हम “नवार्ण” मन्त्र का सवा करोड़ जपकर लें 27 पाठ श्री दुर्गा सप्तशती जी के पूर्ण कर लें तथा इनका दशांश हवन कर लें  तो साधक जन्म जन्मान्तरों के ऋणों से एवं पापों से मुक्त हो जाता है !! इसके बाद साधक “नवार्ण” के भी बीज “ह्रीं” बीज मन्त्र का उक्त विधि से अनुपालन करे साधक में बीज मन्त्र की शक्ति को प्रयोग करने की क्षमता प्राप्त हो जाती है और साधक अन्तश्चेतना को जागृत / चेतन कर सकता है इसमें कोई अतिश्योक्ति नहीं है !!

“ॐ” बीज भी परमात्मा का परम बीज है प्रणव तस्य वाचकः सभी जानते हैं परन्तु इस बीज से त्रेता में एवं द्वापर में कल्याण संभव था क्यूंकि उस समय प्राणी पाप समूहों को साथ लेकर जन्म नहीं लेता था उसका जन्म तो होता ही मुक्ति के लिए था क्यूंकि  इन युगों में भगवान् जी ने अवतार लिए उनके प्रभाव से किसी में कोई पाप शेष नहीं रहता था परन्तु आज कलियुग में हम जन्म लेते ही बंधन ( ऋण ) युक्त होते हैं एवं बंधन ( ऋण )युक्त कभी मुक्ति की नहीं सोच सकता जब तक वोह अपने को बंधन ( ऋण ) मुक्त न

कर लें अतः हमें इस मार्ग का अनुसरण करने से ही लाभ होगा !! अब इस पराशक्ति बीज  “ह्रीं” के प्रति शास्त्र प्रमाण जानते हैं श्री दुर्गा सप्तशती के अनुसार :-

 

 वियदीकारसंयुक्तं वीतिहोत्रसमन्वितम् 

अर्धेन्दुलसितं देव्या बीजं सर्वार्थसाधकम् ॥१८॥

एवमेकाकाक्षर ब्रह्म यतयः शुद्ध चेतसः !

ध्यायन्ति परमानंदमया ज्ञानाम्बुराशयः !! १९ !!

 

वियत – आकाश ( ह ) तथा “ई” कार से युक्त, वीतिहोत्र –अग्नि ( र ) – सहित, अर्धचन्द्र बिंदी से अलंकृत जो देवी महामाया का बीज है वह सभी मनोरथ पूर्ण करनेवाला है ! इस प्रकार इस एकाक्षर ब्रह्म ( ह्रीं )—का ऐसे यति ध्यान करते हैं , जिनका चित्त शुद्ध है , जो निरातिशयानान्द्पूर्ण और ज्ञान के सागर हैं संक्षेप में इसका अर्थ इच्छा – ज्ञान – क्रियाधार , अद्वैत,अखण्ड,सचिदानंद,समरसिभूत,शिवशक्ति स्फुरण है !! 18-19 !!

 


Aum Aim Hreem Kleem Chamundayei Vicche

This is the Navarna Mantra ,the bija mantra of all three Divine Mothers, Maha Kali, Maha Lakshmi, and Maha Saraswati. So it embodies all three Mothers. In its purest form the mantra is used without the Pranava  ) as Aim Hrim Klim Chamundayai Vichche

 

 

The syllable Hr ( ह्र ) while chanting must be focussed with the Heart beat

  • The pronounced sound EE (  ) must be reflected between the eyebrows
  • The anusvara or the bindu ( ॅं ) creating the Nada must be absorbed and meditated as ultimate reality

 

Mantra and Resonance


The effect of sound on various entities is well researched. Technically sound is nothing but frequencies, some we can hear some we cannot, but they do have profound effect. Coming to humans, its researched that frequencies under 7hz create an alpha state, a realm of well being. The earths frequency is calculated at 6.8hz by modern terminology known as Schumann resonance. The Schuman resonance to be brief is an group of electromagnetic frequencies at which earth resonates, 7.83 hZ being the strongest. It is interesting to note that when chanted rhythmically the Pranava or Aum ( ॐ) resonates at 7.83hz. Similarly we can relate certain beej Mantras with the Schumann resonances of earth.

  • Aum (ॐ) – 7.83Hz
  • Hreem ( ह्रीॅं) – 26Hz

 

  • Super Mantra HREEM is the very life force, seed, fount and deep import of entire Mantra Science. All Tantrik applications found in Agam, Nigam and Vedas should be looked upon HREEM  Seed Energy. Vedas are the infinite vault of Mantra Science. And it manifested via MAHAKALI,MAHALAKSHMI,MAHASARSVATI  and Super Energy NAVARNA . By coming in close contact with this incomparable, wondrous, infinite and cosmic glory we must render our scientific, social, spiritual and material life joyous, prosperous, successful and self fulfilling.

To attain this all first we have to work on sevan chakra therepy for that we have to gain the knowledge of these chakra’s 

This All Power Of Meditation is experimented and practised from last 15 years by VEDIC MAHARISHI DR.BALWINDER AGGARWAL(धर्म गुरु)